9314297540
About Organization

एवीपी  पी जी - महिला महाविद्यालय की  स्थापना श्रद्देय  दादाजी स्व. श्री के एम. उपाध्याय जी के कर कमलों द्वारा सन  2003 में हुयी । अंचल के अभिभावकों एवं विद्यार्थियों के लिए श्रद्देय दादाजी के आशीर्वाद से घर बैठे गंगा आयी । विद्यार्थियों को नगर  के मध्य में ही एक सुसज्जित  सुव्यवस्थित एबं अनुशासित, उच्च शिक्षा का केन्द्र सुलभ हो गया । सबसे अधिक फायदा उन विधार्थियो  को हुआ "जो राजकीय महाविद्यालय में प्रवेश से वचित रहते थे, उन्हें अध्ययन के लिए काफी खर्च  उठाकर घर छोड़कर बाहर जाना  होता था । छात्राओं को भी उच्च शिक्षा का केन्द्र सुलभ  होने पर  लाभ मिला, जिनके अभिभावक पढाई बन्द करवा देते थे या उन्हें  बहार पढ़ने के लिए भेजने में सक्षम नहीं होते थे । खास अनुभव यह आया कि राजकीय महाविद्यालय में मैरिट से प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों के मुकाबले हमारे उन विद्यार्थियों के परिणाम तुलनात्मक दृष्टि से बहुत जानदार रहे, जे मेरिट से राजकीय महाविद्यालय में प्रविष्ट नहीं को  पाते  थे और एवीपी  महाविद्यालय में जिन्होंने अध्ययन किया । इसका श्रेय महाविद्यालय के विद्वान प्रवक्ताओं, अनुशासन एवं बेहतर प्रबन्धन को जाता है |   विगत के ग्यारह वर्षो से संस्थान से निकले खासतौर से अंग्रेजी साहित्य  के विद्यार्थियों ने पुरे क्षेत्र की  शिक्षा व्यवस्था को समुचित रुप से संचालित करने  में अहम् भूमिका  निभाकर संस्थान को  गौरवान्वित किया है । सभी राजकीय एवं निजी शिक्षण संस्थानों  में इस शिक्षण संस्थान से निकले विद्यार्थियों पर ही अंग्रेजी, गणित एवं विज्ञान  जैसे विषयों के अध्यापन का दारोमदार रह गया है, जिससे पूरे क्षेत्र में बोर्ड परिक्षाओं के परिणामों में आशातीत सुधार हुये है । संस्थान से निकले सैकड़ो  स्कॉलर चाहे गेस्ट  फैकल्टी में कार्य कर रहे हों या कोचिंग चला रहे हो या अपना स्वयं का संस्थान चला रहें को या अन्य किसी संस्थान में सेवाऐं दे रहे हो  उन्होंने खासतौर से इन तीन विषयों में विद्यार्थियों के पिछडे हुये स्तर के उन्नयन में खासी भूमिका अदा की  है एवं कर रहे है । उपलब्धियों भरे  गयारह सत्रों  के विधार्थियो के परिणाम कीर्तिमान बन गए है | इसी से उत्साहित होकर महाविदलया को स्नातकोत्तर (P.G) का स्वरूप प्रदान किया गया है जिसमे हिंदी ,इतिहास , भूगोल , राजनीति शास्त्र संस्कृत में एम ए पाठ्य कर्म शामिल है  कंप्यूटर पाठ्यक्रमों के अंतर्गत  विश्वविधालय द्वारा P.G.D.C.A की मान्यता भी प्रदान की हुई है 

AVP PG MAHILA COLLEGE LALSOT​ is a P.G. College, with a well trained and experienced staff. We will try our best to providing a positive environment where all students can learn, develop and mature while promoting self-esteem, responsibility, and respect for self as well as others. Today college is well known not only in Rajasthan but also beyond the Rajasthan.

             Under the influence of materialistic environment some parents might think that they can purchase education with the fees, but this is not true, we have taken responsibility of improving student's overall personality and not only just educational qualities. AVP PG MAHILA COLLEGE LALSOT​ has always expected the same kind of responsibility from the Parents. Parents should think like AVP PG MAHILA COLLEGE LALSOT​, have positive and creative attitude and be kind and personal.

the unfaithful husband open married men cheat with men